(online पंजीकरण) उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना और सिकायत नंबर

By | September 20, 2020

बाल श्रमिक अध्ययन योजना पंजीकरण फॉर्म |उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक scheme  की
आवेदन प्रक्रिया | बाल मजदुर विद्या योजना toll free number |उत्तर प्रदेश बाल मजदुर
scheme online रजिस्ट्रेशन | मुख्यमंत्री बाल श्रमिक योजना 2020 |बाल श्रमिक मजदुर
योजना application form |

उत्तरप्रदेश सरकार ने गरीब तथा अनाथ बचो की शिक्षा को लेकर बड़ा फेसला लिया है इस योजना
के पहले चरण में राज्य के 35 जिलो के 2000 बचो का चयन किया जाएगा जो 2011 की
जनगणना के अनुसार है  इनके लिय सरकार ने बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत 12 जून
2020 में की है

इस योजना के शुरू होने से राज्य का कोई भी बचा शिक्षा से वंचित नही रहेगा इसके जरीय सरकार
का उधेश्य है बचो को शिक्षा प्रदान करना जिस बचे के परिवार वाले अपने बालको को शिक्षा देने में
असक्षम है उन परिवार के बचो को 1000 रुपया की मासिक भुगतान दिया जाएगा और बचियो को
1200 रुपया प्रति महिना दिया जाएगा जब इन गरीब परिवार के बचे अपनी शिक्षा को बढ़कर
कक्षा 8 ,9 ,10 वी में हो जाएँगे तब उनको 6000 रुपया का अलग से सहायता राशी भेंट की जाएगी
वो इन बचो के सीधे अकाउंट में आएगी |उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना

बाल श्रमिक विद्या योजना2020 (introduction)

देश के एक राज्य की अर्थव्यवस्था कमजोर जब होती है तब राज्य में बेरोजगारी चरम सीमा को पर
कर जाए और साक्षरता दर में कमी हो जाए वह राज्य अपनी प्रगति को विकसित नही कर सकता
और राज्य का मुख्यमंत्री ये कभी चाहता ही नही इसलिय उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री
आदित्यनाथ ने गरीब एवं असहाय परिवार के बचो को उच्च शिक्षा के रस्ते पर ले जाने की ठानी है
इसमें इन गरीब बचो की शिक्षा के लिय 1000 रुपया की राशी देंगे और अगर बची है तो उनका
अनुदान 1200 रुपया होगा जब बचो की शिक्षा धीरे धीरे प्रगति की और कक्षा 8 ,9 ,10 में होगे
तब इन बचो को एक्स्ट्रा 6000 6000 रुपया की वार्षिक राशी दी जाएगी बाल श्रमिक विद्या scheme

उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन

योजना का नाममुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना
शुरू कब हुई12 जून 2020
किनके लिय हैश्रमी मजदुर के बचो के लिय
उधेश्यश्रमिक मजदूरो के बचो को शिक्षा प्रदान कराना
कितना लाभ मिलेगाboy को 1000 रु प्रति महिना और girls को 1200 रु प्रति महिना
ऑफिसियल websitehttp://uplabour.gov.in/

बाल श्रमिक विद्या योजना के मुख्या पहलू क्या है

ये राज्य के उन गरीब एवं अनाथ बचो के लिय है जो शिक्षा के मिठास को अभी छुआ ही नही
क्योकि उनके माता -पिता की स्थति दयनीय है क्योकि उनके माता पिता अपने बचो का जीवन
यापन श्रम का कठिन कार्य करके जीवन बिताते है

जब मनुष्य की स्थति दयनीय हो जाति है तो इसका असर उनकी मानसिकता को कमजोर बना डेटा है उनको अपने बचो का भविष्य नहीदिखाई पड़ता इस बाल श्रमिक योजना की पहल राज्य सरकार ने इसी के वास्ते की है लोगो की
मानसिकता को बदलने के लिय शुरू की है इस योजना में बचो को तो 1000 रुपया की मदद
मिलेगी और बचियो को 1200 रुपया की ताकि वे आगे जाकर अपने भविष्य को उज्ज्वल बना सके

उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक शिक्षा अध्ययन योजना से गरीब बचो को क्या लाभ मिलेगा

जब राज्य में बाल श्रमिक विद्या scheme की शुरुआत होगी तब राज्य का कोई भी गरीब व् आशय
परिवार का बचा अनपढ़ नही रहेगा राज्य की साक्षरता दर भी बढ़ेगी इससे परिवार को हर महीने

श्रमिक परिवार पर बचो की शिक्षा को लेकर किसी प्रकार का बोझ नही रहेगा और ये बचे अच्छी
शिक्षा की प्राप्ति करेंगे जिससे उनके माता -पिता का ध्यान भी बचो की और केन्द्रित रहेगा और
जब बालक और बालिकाए उच्च शिक्षा जैसे 8 ,9 10 वी में होंगे तब और इनको आर्थिक मदद्
मिलेगी वो भी ६००० -६००० रुपया की राशी जिससे बचे शिक्षा की और अग्रसर होंगे और एक दिन
वो रोजगार की प्राप्ति कर लेंगे उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या अध्ययन scheme

राज्य में बाल श्रमिक विद्या अध्ययन योजना को शुरू कब किया गया

उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्या मंत्री माननीय योगी जी ने 12 जून 2020 को कोरों कल के मुश्किल
भरे समय में शुरू की है उस दिन बाल श्रमिक निषेध दिवस था इस योजना में बालक एवं
बालिकाओ को उच्च शिक्षा की पहली सीढियों पर भेजने के लिय अर्थार्थ अनपढ़ बचो को शिक्षा
देकर रोजगार की और स्वावलंब बनाने के लिय उनके भविष्य को उज्जवल बनाने के लिय इस
बाल श्रमिक योजना को शुरू किया है इस योजना का लाभ केवल राज्य के श्रमिक मजदुर व् अनाथ
बचो की शिक्षा पर जोर दिया गया है

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या अध्ययन योजना का उधेश्य

उत्तर प्रदेश सरकार चाहती है की राज्य के वे श्रमीक मजदुर के बचे जो अपनी शिक्षा से वंचित है
उनको ज्यादा से ज्यादा शिक्षा ग्रहण करवाना इस योजना में इन बचो के माता -पिता को हर
महीने boy को 1000 रुपया की राशी तथा girls को 1200 रुपया की आर्थिक सहायता राशी दी
जाएगी जिससे वे अपने बचो को उच्च शिक्षा प्रदान करवा सके और ये बचे जब कक्षा 8 ,9 ,10 में
हो जाएँगे तब इनको अलग से 6000 – 6000 रुपया की राशी और दी जाएगी जिससे वे आगे की
पढाई भी कर सके राज्य सरकार का उधेश्य है की हर गरीब व् असहाय बचो को शिक्षा प्रदान
कराना ताकि इनको भी नोकरी (रोजगार ) के अवसर मिले ये बचे भी सशक्त एवं आत्मनिर्भर बने
किसी दुसरे के सहारे अपना जीवन न जिए

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक योजना की कुछ आवश्यक शर्ते

  • इस बाल श्रमिक विद्या योजना का लाभ उन परिवार को मिलेगा जिनकी आय केवल न के बराबर है
  • योजना का लाभ राज्य के भूमिहीन परिवार के बचो को दिया जाएगा
  • बाल श्रमिक विद्या अध्ययन योजना का free में लाभ उन गरीब बचो को दिया जाएगा जिनके
    माता – पिता हमेशा श्रमिक एवं मजदुर का कार्य करते है
  • जिस बचे के माता -पिता उत्तर प्रदेश राज्य के मूलनिवासी है वो ही योजना का लाभ ले सकेंगे
  • अगर कोई गरीब परिवार के बचे के माता ये पिता किसी लाइलाज बीमारी से पीड़ित है उन बचो
    को भी इस योजना में शामिल किया जाएगा

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक योजना के आवश्यक दस्तावेज व् पात्रता

  • इस योजना का लाभ उन बचो को मिल;एगा जिनकी आयु 8 वर्ष से 18 वर्ष के बिच है
  • बचे के परिवार का मजदुर या श्रमिक कार्ड होना बहुत ही जरुरी है
  • माता पिता के पास bpl राशन कार्ड होना चाहिय
  • आय प्रमाण पत्र
  • मुलनिवास प्रमाण पत्र
  • बचे का जन्म प्रमाण पत्र
  • बचे की पास पोर्ट साइज़ फोटो
  • बैंक खाता

बाल शमिक विद्या अध्ययन योजना का आवेदन कैसे करे ?

दोस्तों हम आपको बता दे की सरकार ने इस योजना को अभी लोंच किया है इसके आवेदन करने
की कोई भी प्रक्रिया को अब तक शुरू नही किया है जैसे ही इस योजना की आवेदन परक्रिया शुरू
की जाएगी तब आपको हम इस आर्टिकल के मध्यम से जानकारी बता देंगे आप से अनुरोध है की
आप इस साईट को बार बार देखते रहना क्या पता सरकार कब इसकी आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दे

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक मजदुर योजना toll free number

प्यारे दोस्तों उत्तरप्रदेश गोरमेंट ने इस योजना के helpline नंबर अभी जरी नही किय है क्योकि
इस योजना की सरकार पूरी तेयारी कर रही है जैसे गोर्मेत इस योजना के सिकायत नंबर जारी
करेगी तो आपको हम इस लेख में बता देंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *